केडीके न्यूज़ नेटवर्क 

भिवंडी। भिवंडी निज़ामपुर शहर मनपा के आयुक्त अजय वैद्य की नियुक्ति तिथि से लेकर आज तक उनके हस्ताक्षर द्वारा जिस-जिस काम की जो-जो फाइलें मंजूर हुई हैं, उसमें भयंकर भ्रष्टाचार की आशंका जताते हुए उसके समग्र जांच सहित इनका तबादला कर भिवंडी मनपा आयुक्त के पद पर अन्य कोई निष्ठावान और ईमानदार आईएएस अधिकारी की नियुक्ति की मांग एक ज्ञापन द्वारा राज्य के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे से की गई है। आज गुरुवार को मनपा आयुक्त वैद्य के खिलाफ प्रांत कार्यालय के सामने दिए गए धरने के बाद ‘मी भिवंडीकर’ नामक संस्था के बैनर तले फ़ख़रे आलम खान द्वारा ज्ञापित ज्ञापन उप विभागीय अधिकारी के माध्यम से राज्य के CM शिंदे को भेजा गया है। जिसे उप विभागीय अधिकारी की ग़ैरहाजिरी में उनके कार्यालय के नायब तहसीलदार ने स्वीकार किया। 

             ज्ञापन में फ़ख़रे आलम खान द्वारा बताया गया है कि भिवंडी मनपा का आयुक्त नियुक्त होने के बाद से अजय वैद्य द्वारा शहर में अवैध निर्माणों के प्रोत्साहन सहित बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार शुरू है। जिसका प्रत्यक्ष प्रमाण यह है कि पिछले पखवाड़े भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो द्वारा डेढ़ लाख की रिश्वत लेते मनपा के तीन कर्मचारी रंगे हाथ धरे गए थे। जिसमें मनपा आयुक्त वैद्य की संलिप्तता के चलते इन्हें भी भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो द्वारा नोटिस दी गई है। जिससे स्पष्ट होता है कि मनपा आयुक्त वैद्य एक भ्रष्ट अधिकारी हैं। इसलिए इनका तबादला कर इनके स्थान पर भारतीय प्रशासनिक सेवा के किसी अधिकारी की नियुक्ति बतौर मनपा आयुक्त होनी चाहिए। ज्ञापन में बतौर स्मरण यह भी कहा गया है कि दो माह पूर्व ही उक्त आशय की मांग वाला एक ज्ञापन उप विभागीय अधिकारी के माध्यम से राज्य सरकार को दिया गया था। इसके अलावा 30 अक्टूबर 2023 को मुंबई के आजाद मैदान में पदयात्रा निकालकर तथा 3 नवंबर 2023 को एक निवेदन द्वारा मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे से भिवंडी मनपा आयुक्त वैद्य के तत्काल तबादले की मांग की गई थी। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed

error: Content is protected !!