केडीके न्यूज़ नेटवर्क  

उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा कथित हवाला मामले के संबंध में अबू आसिम आज़मी के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। यह कदम उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ जिले की मुबारकपुर पुलिस द्वारा 19 जनवरी को 50 लाख रुपये की पर्याप्त नकद जब्ती के मद्देनजर आया है। मामले में आज़मी के साथ 10 अन्य व्यक्तियों का भी नाम लिया गया है। कथित हवाला रैकेट का खुलासा तब हुआ जब पुलिस ने संदेह के आधार पर एक वाहन को रोका, जिससे पर्याप्त राशि की खोज हुई। अबू आसिम आजमी महाराष्ट्र के सबसे अमीर विधायकों में से एक और समाजवादी पार्टी का प्रतिनिधित्व करते हैं। पुलिस सूत्रों के मुताबिक़ कथित तौर पर अबू आसिम के करीबी अट्टू का नाम बीते जून माह में अबू आजमी और वाराणसी के विनायक ग्रुप के ठिकानों पर मारे गए छापों में सामने आया था। आयकर विभाग की टीम ने उसके मुंबई के ठिकानों पर भी दबिश दिया था। लेकिन वह बच निकलने में कामयाब हो गया था। आयकर विभाग उससे पूछताछ कर अबू आजमी की बेशुमार संपत्तियों में लगी काली कमाई का पता लगाने की कवायद में जुटा है।​           
बता दें कि जून माह में आयकर विभाग ने अबू आजमी के करीबी वाराणसी निवासी अनीसुर रहमान के ठिकानों को भी खंगाला था। इस दौरान अनीसुर ने आयकर विभाग को बताया कि वाराणसी में विनायक ग्रुप के जरिए अबू आजमी रियल एस्टेट कारोबार में काली कमाई को निवेश ​करते हैं और अबू आजमी अपने करीबी आशीष नामक युवक के जरिए करोड़ों रुपये की नकदी को वाराणसी में निवेश करने ​हेतु भेजते थे। बाद में विनायक ग्रुप से मिलने वाले अबू आजमी के निवेश की रकम और मुनाफे को वह ​हवाला कारोबारी अट्टू के जरिए मुंबई भेजता है। बीते एक वर्ष के दौरान उसने अबू आजमी को करीब 4.15 करोड़ रुपये नकद भेजे हैं। आयकर विभाग के सूत्रों की मानें तो अट्टू के जरिए अबू आजमी की तमाम अन्य नामी-बेनामी संपत्तियों के बारे में अहम जानकारी मिल सकती है।
​          वहीं दूसरी ओर इस मामले की गहनता से छानबीन के लिए आयकर विभाग ने अबू आजमी को चार बार नोटिस देकर बुलाया, ​लेकिन वह जांच एजेंसी से दूरी बनाए रहे। दरअसल, आयकर विभाग को छापे के दौरान तमाम ऐसे दस्तावेज मिले थे, जिसमें अबू आजमी और विनायक ग्रुप के उनके पार्टनर के नाम कोड वर्ड में लिखे होने के साथ करोड़ों रुपये ​नकदी के लेन-देन का जिक्र था।​ आयकर विभाग के सूत्रों के मुताबिक अट्टू भी अबू आजमी की तरह आजमगढ़ का रहने वाला है। कई साल पहले उसने मुंबई में अबू आजमी के प्रभाव वाले क्षेत्र में अपना ऑफिस खोला और वहीं पर अपना ठिकाना बनाकर हवाला का कारोबार करने लगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed

error: Content is protected !!